Lung Cancer – जाने क्या है फेफड़ों का कैंसर और इसके संकते?

Posted by

लंग कैंसर के कारण, लक्षण और बचाव!

लंग कैंसर के कारण
लंग कैंसर के कारण

लंग कैंसर यानी की फेफड़ों का कैंसर ये एक प्रकार का कैंसर है। ये कैंसर तब शुरू होता है जब शरीर में कोशिकाएं कंट्रोल से बाहर होने लगती है यानी जरूरत से ज्यादा बढ़ने लगती है। लंग कैंसर विश्व स्तर पर मौत का एक मुख्य कारण है। ये भारत में भी प्रमुख स्वास्थ्य समस्याओं में से एक हैं। फेफड़ों के कैंसर आमतौर पर ब्रोकर और फेफड़ों के कुछ हिस्सों जैसे में फैल सकता है। जब कैंसर कोशिकाएं शरीर के एक अंग में फैलती है, तब उन्हें मेटास्टेसिस (metastasis) कहा जाता है। 

लंग कैंसर के कारण (Cause of lung cancer) 

लंग कैंसर किसी भी व्यक्ति को हो सकता है, लेकिन कुछ कारण है जो आपको फेफड़ों का कैंसर होने का खतरा बढ़ा देता है – 

  • धूम्रपान करना 
  • विषाक्त पदार्थों के संपर्क में आना 
  • अनुवांशिक कारण
  • फेफड़ों संबंधित कोई अन्य बीमारी 
  • वातावरणीय कारक 

लंग कैंसर के लक्षण (Symptoms of Lung Cancer) 

लंग कैंसर के लक्षण
लंग कैंसर के लक्षण

लंग कैंसर का कोई लक्षण शुरुआती दौर में नहीं दिखता है। सबसे जरूरी है लक्षण फेफड़ों के कैंसर के ऐडवांस स्टेज में पाए जाते हैं। फेफड़ों के कैंसर अलग-अलग लोगों में अलग-अलग ही लक्षण नजर आते हैं। कुछ लोग जिनके लंग का कैंसर शरीर के बाकी हिस्सो में फेलने लगता है। शरीर के उस दूसरे हिस्सों में खास दिखाई देता है।  साथ ही नीचे दिए लक्षण अधिक देखने को मिलते हैं जैसे – 

  • खांसी जो गंभीर हो जाती है या दूर नहीं होती। 
  • छाती में दर्द होना। 
  • खांसी में खून आना। 
  • सांस लेने में दिक्कतों का सामना करना।। 
  • हर समय थका हुआ महसूस करना।
  • बिना किसी वजह के वजन का कम होना। 
  • निमोनिया के बार-बार होने वाले दौरे। 
  • लंग के बीच में छाती के अंदर सूजन या बढे हुए लिम्फ नोड्स यानी ग्रंथियां। 

वैसे तो ये लक्षण अन्य बीमारियों में भी नजर आ सकते हैं, लेकिन आप अपना चेक करवाना ना भूले।  

लंग कैंसर से बचाव (Lung cancer prevention)   

लंग कैंसर से बचाव
लंग कैंसर से बचाव

फेफड़ों के कैंसर को रोकने का कोई निश्चित तरीका नहीं है, लेकिन आप अपना जोखिम कम कर सकते हैं जैसे- 

1. धूम्रपान कभी भी शुरू न करें (never start smoking) 

अगर आपने कभी धूम्रपान नहीं किया है तो कभी भी न करें। अपने बच्चों से धूम्रपान न करें की सलाह दें जिससे वे समझ सकें कि ये लंग के कैंसर के प्रमुख कारण में आते हैं। 

2. धूम्रपान को बंद करें (stop smoking) 

अगर आप धूम्रपान करते हैं तो तुरंत छोड़ दें। स्मोकिंग छोड़ने से आप फेफड़ों के कैंसर के खतरे को कम कर सकते हैं। भले ही आप वर्षों से धूम्रपान कर रहे हों।

3. सेकेंड हैंड स्मोक से बचें (avoid second hand smoke)  

अगर आप स्मोकिंग करने वाले के साथ रहते हैं या काम करते हैं तो उनसे भी सिगरेट छोड़ने के लिए आग्रह करें और जब वे सिगरेट पी रहे हो, तब आप उनसे दूर रहें। 

4. फल व सब्जियों का सेवन करें (eat fruits and vegetables) 

विभिन्न प्रकार के फलों और सब्जियों से भरपूर स्वस्थ आहार का चुनाव करें। जो विटामिन और पोषक तत्वों से खाद्य स्त्रोत से भरे हो। सप्लीमेंट के रूप में विटामिन की बड़ी खुराक लेने से बचें, क्योंकि ये अपने शरीर के लिए हानिकारक हो सकता है। 

इसे भी पढ़ेबदलते मौसम में रखे अपने खान पान का खास ध्यान 

5. फिट रहें (keep fit)

यदि आप रोजाना व्यायाम नहीं करते हैं तो धीरे-धीरे शुरूआत करें। लेकिन कोशिश करें कि, आप रोजाना एक्सरसाइज करें और अपने आप को फिट रखें।  

नोट – वहीं अगर आप लंग कैंसर के आखिरी स्टेज पर पहुंच चुके हैं, तो डॉक्टर की सलाह के मुताबिक इलाज करें। लेकिन ऊपर बताई गई बातों का अवश्य ध्यान रखें और दूसरों को भी सलाह दें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *