Vitamin C ke Fayde – विटामिन C के फायदे, स्रोत और नुकसान

Posted by

विटामिन सी क्या है – Vitamin C in Hindi

Vitamin-C-ke-Fayde

Vitamin C ke Fayde – शरीर के स्वस्थ विकास के विटामिन की आवश्यकता होता है, उन्हीं में से एक है विटामिन-सी। ये पानी में घुलनशील विटामिन है जो शरीर के सामान्य विकार के लिए आवश्यक होता है। साथ ही ये एक प्रकार का एंटी-ऑक्सीडेंट भी है। ये स्किन, हड्डियों और कनेक्टिव टिश्यू के लिए भी जरूरी माना जाता है। ये हीलिंग प्रोसेस यानी घाव भरने की प्रक्रिया को बढ़ाने में सहायता करने के साथ ही शरीर में आयरन के अवशोषण में भी मददगार हो सकता है। बता दें कि, एंटीऑक्सीडेंट युक्त खाद्य पदार्थ मुक्त कणों यानी फ्री रेडिकल्स की वजह से होने वाले शारीरिक नुकसान को रोकने में मदद करता है। तब ऐसे में विटामिन सी कई प्रकार की समस्याओं में फायदेमंद माना जाता है। वहीं इसकी कमी की वजह से कई बीमारियां भी हो सकती है। तो आइए विस्तार से जानते हैं विटामिन-सी (What is Vitamin C?) के बारे में। 

विटामिन सी की कमी के लक्षण – Vitamin C ki Kami se Kya Hota Hai

  1. ड्राई स्किन : विटामिन-सी स्किन के लिए बेहद ही अच्छा माना जाता है। वहीं इसकी कमी होने पर स्किन ड्राई होने लगती है। विटामिन-सी (Vitamin C ke Fayde) की कमी से स्किन जरूरत से ज्यादा डैमेज दिखने लगती है और आपकी स्किन पर झुर्रियां भी नजर आ सकती है। 
  2. घाव का धीरे भरना : विटामिन-सी की कमी होने पर चोट या कोई घाव भरने की गति धीमी होने लगती है, वो इसलिए क्योंकि विटामिन-सी की कमी होने पर शरीर में कोलाजन धीरे बनने लगता है जिससे चोट जल्दी नहीं भरती। इस विटामिन की कमी से इंफेक्शन भी फैलने लगता है। इस तरह आसानी से शरीर पर विटामिन सी की कमी देखी जा सकती है।
  3. वजन बढ़ना : आपको विटामिन सी की कमी से शरीर का वजन बढ़ता हुआ भी महसूस हो सकता है। खासकर पेट के आसपास विटामिन-सी (Vitamin C in Hindi) की कमी से चर्बी इकट्ठा होने लगती है। यदि आपको भी अचानक से वजन बढ़ा हुआ लगने लगे तो हो सकता है आपके शरीर शरीर में विटामिन सी की कमी की वजह है। 
  4. दांतों पर असर : आपकी स्किन ही नहीं बल्कि दांत भी विटामिन सी की कमी से प्रभावित होते हैं। कोलेजन की कमी मसूड़ों से रक्त निकलने का भी कारण बनता है। साथ ही मसूड़ों में सूजन भी महसूस हो सकती है और कई बार दांत टूटने की दिक्कत भी आ सकती है।
  5. नाखूनों पर निशान : विटामिन-सी की कमी होने पर नाखुन खुरदरे हो सकते हैं। साथ ही नाखूनों पर लाल व सफेद चकत्ते नजर आने लगते हैं। 
  6. इम्यूनि सिस्टम में कमजोरी : विटामिन-सी (Vitamin C in Hindi) एक जरूरी एंटीऑक्सीडेंट है जिसकी कमी से शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता की कमी हो सकती है। आप बीमार भी पड़ सकते हैं और इंफेक्शन की चपेट में आने का खतरा ओर अधिर बड़ जाता है। 

बताएं गए इन लक्षणों पर आपको खास ध्यान देना जरूरी है नहीं तो आप गंभीर बीमारी के शिकार हो सकते हैं।     

विटामिन सी के फायदे – Vitamin C ke Fayde

Vitamin-C

  1. चोट को जल्दी ठीक करने में मदद करे : विटामिन-सी के अंदर ऑक्सीडेंट्स होते हैं जो शरीर में होने वाले घाव, जख्म या चोट को जल्द ठीक करने का काम करता है। 
  2. मोतियाबिंद और उम्र से संबंधित परेशानियों को कम करें : कई शोध के मुताबिक, विटामिन-सी मोतियाबिंद के विकास की संभावना को कम करता है। ये अध्ययन 50 से ऊपर की उम्र पर कंद्रित थे और इससे पता चला है कि विटामिनी (Vitamin C ke Fayde) के लंबे समय तक सेवन से आयु-प्रेरित मोतियाबिंद को कम किया जा सकता है। वहीं ली गई मात्रा को विनियमित किया जाना चाहिए और पुरुषों और महिलाओं के लिए अलग-अलग हैं। 
  3. मधुमेह के लिए फायदेमंद : डायबिटीज कंट्रोल से संबंधित एक शोध से इस बात की पुष्टि होती है कि, विटामिन-सी को यदि औषधि के रूप में प्रतिदिन 1000 एमजी तक लिया जाए जो ब्लड शुगर को कंट्रोल में इससे सकारात्मकक प्रभाव देखने को मिल सकते हैं। साथ ही ये डायबिटीज मरीजों में डायबिटीज की वजह से होने वाली जटिलताओं के जोखिम को भी कम कर सकते हैं। ऐसे में ये कहा जाता है कि विटामिन-सी का सेवन डायबिटीज के मरीजों को राहत दिलाने में सहायता कर सकता है। ऐसे में खाद्य पदार्थ के जरिए डायबिटीज डाइट में विटामिन-सी (Vitamin C ke Fayde) युक्त खाद्य पदार्थों को शामिल करना अच्छा विकल्प हो सकता है।
  4. प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाए : विटामिन सी से एक अन्य अतिरिक्त लाभ प्रतिरक्षा में वृद्धि है। ये शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली में योगदान देता है और सफेद रक्त कोशिकाओं की गिनती को बढ़ाने में भी योगदान देता है। ये बीमारियों और अन्य सक्रंमणों के प्रति एक प्रतिरोध बनाने के लिए आवश्यक है। ये विटामिन सी शरीर को अन्य बीमारियों से उबरने में भी सहायता करता है। 
  5. उच्च रक्तचाप के लिए : जिन लोगों को हाई ब्लड प्रेशर होता है और उन्हें दिल की बीमारी के विकास का अधिक खतरा होता है। ब्लडप्रेशर के लेवल को कंट्रोल करने के लिए आहार में बदलाव करना आवश्यक है। विटामिन-सी के लेवल को कंट्रोल करने में एक जरूरी भूमिका निभाता है। शोध के मुताबिक, विटामिन सी ने उच्च रक्तचाप को भी जल्दी स्वस्थ होने में सहायता मिलता है।  
  6. मसूड़ों को स्वस्थ रखे : बॉडी में विटामिन-सी (Vitamin C ke Fayde) की पर्याप्त मात्रा में मसूड़े हेल्दी रहते हैं और मसूड़ों में रक्तस्त्राव जैसी समस्याएं नहीं होती है। 
  7. एलर्जी के लिए : एलर्जी की समस्या होने पर विटामिन सी (Vitamin C ke Fayde) फायदेमंद हो सकता है। जी हां, एक रिसर्च के अनुसार, ऑक्सीडेटिस्ट्रेस ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस एलर्जी की समस्या का एक कारक हो सकता है। एलर्जी से संबंधित बीमारियों का संबंध रक्त में एक्सॉर्बेट की कमी से भी जोड़ा गया है। एलर्जी संबंधी रोग एस्कॉर्बेट के कम प्लाज्मा लेवल से जुड़े होते हैं। एस्कॉर्बेट प्रतिरक्षा प्रणाली की क्षमता को कम किए बिना अत्यधिक सूजन को रोक सकता। वहीं, शोध में इस बात का भी जिक्र मिलता है कि विटामिन-सी के साथ किया गया ट्रीटमेंट एलर्जी से संबंधित लक्षणों को कम कर सकते है। 
  8. वजन घटाने के लिए : विशेषज्ञों के मुताबिक विटामिन-सी(Vitamin C in Hindi) के सेवन से बॉडी में जमी चर्बी को कम करने में सहायता मिलती है। बशर्ते व्यक्ति द्वारा संतुलित आहार के साथ नियमित व्यायाम पर भी ध्यान दिया जाए। इससे जुड़ी अन्य जानकारी में भी विटामिन सी को वजन कम करने और मोटापे से बचाव के लिए इस्तेमाल बताया गया है। इस तथ्य को देखते हुए ये कहा जा सकता है कि वजन घटाने की इच्छा रखने वाले लोगों के लिए विटामिन-सी (Vitamin C ke Fayde) का सेवन उनके प्रयास के प्रभाव को तेज करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं।  

कितनी मात्रा में करना चाहिए सेवन

आप रोजाना 80 मिलीग्राम विटामिन-सी की आवश्यकता होता है। ये हर एक व्यस्क को इतनी मात्रा में रोजाना विटामिन सी का सेवन करना चाहिए। 

विटामिन सी का सबसे अच्छा स्रोत कौन सा है – Source of Vitamin C in Hindi

Source-of-Vitamin-C-in-Hindi

खट्टे रसदार फल जैसे आंवला, नारंगी, नींबू, संतरा, अंगूर, टमाटर आदि और अमरूद, सेब, केला, बेर, बिल्व, कटहल, शलगम, पुदीना, मूली के पत्ते, मुनक्का, दूध, चुकंदर, चौलाई, बंदगोभी, हरा धनिया और पालक विटामिन-सी के अच्छे स्त्रोत हैं। साथ ही दालें भी विटामिन-सी (Vitamin C ke Fayde) का स्त्रोत होती है। 

विटामिन सी के नुकसान – Vitamin C ke Nuksan

  • शरीर में हो सकती है आयरन की अधिकता : आयरन के लिए विटामिन-सी (Vitamin C in Hindi) को अच्छा माना जाता है, लेकिन क्या आपको पता है कि यदि आपके विटामिन-सी अधिक मात्रा में ले लिया जाए तो शरीर में आयरन की मात्रा अधिक हो जाती है। आयरन की मात्रा अधिक होने से शरीर में कई तरह की बीमारियों के होने का खतरा बढ़ सकता है। 
  • किडनी खराब होने का डर : विटामिन सी (Vitamin C in Hindi) वैसे तो सेहत के लिए लाभदायक होता है, लेकिन शरीर में इसकी जरूरत से ज्यादा अधिकता किडनी पर खराब पर असर डाल सकती है। यहां तक कि किडनी खराब होने के साथ-साथ स्टोन की शिकायत भी हो सकती है। 
  • पेट खराब हो सकता है : शरीर के वैसे तो सभी अंगों का ध्यान रखना जरूरी होता है, लेकिन पेट एक ऐसी चीज है जिसे लेकर अधिकतर लोग बहुत ध्यान रखते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि पेट में जरा सा भी दर्द पूरे शरीर के लिए कष्टदायक बन सकता है। इसी वजह से विटामिन सी (Vitamin C in Hindi) का सेवन अधिक मात्रा में ना करें। साथ ही इसके अधिक सेवन से पेट खराब हो सकता है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *